शरीर को एकदम फिट रखता है सोयाबीन का दूध, जानें कैसे बनता है सोया मिल्क (soya milk benefits in hindi)

0
304

सोयाबीन के दूध के फायदे (soya milk benefits in hindi)

सोयाबीन की सब्जी आप लोगों ने जरूर खाई होगी. इसकी सब्जी जितनी खाने से स्वादिष्ट होती है उतनी ही ये सेहत के लिए फायदेमंद होती है. सोयाबीन की सब्जी की तरह की इसका दूध में सेहत के लिए फायदेमंद माना जाता है. सोयाबीन का दूध पीने से शरीर को अनेकों फायदे मिलते हैं और आपका शरीर एकदम फीट रहता है. हालांकि कई लोगों को ये नहीं पता होता है कि आखिर कैसे सोयाबीन का दूध बनाया जाता है और इसको पीने के क्या क्या फायेद होतें हैं.

सोयाबीन का दूध पीने के फायदे

शरीर की कमजोरी दूर हो

जो लोग जल्दी थक जाते हैं और जिनको अचानक से कमजोरी आ जाती है ऐसा लोगों को सोयाबीन का दूध जरूर पीना चाहिए. इस दूध को पीने से शरीर को ऊर्जा मिलती है और आप पूरे दिन बिना थके कोई भी काम आसानी से कर सकते हैं. दरअसल इसके दूध के अंदर  विटामिन बी12  भरपूर मात्रा में पाया जाता है जो कि शरीर को ताकत देने का काम करता है. इसलिए इस दूध को पीने से शरीर एकदम फीट रहता है और थकता भी नहीं है.

हड्डियां मजबूत हों

हड्डियां कमजोर होने पर आप इस दूध का सेवन करें, इसको दूध के अंदर  कैल्शियम, विटामिन डी और आयरन भरपूर मौजूद होता है और ऐसा होने से शरीर की हड्डियों में मजबूती आ जाती है.

ये भी पढ़ें- ब्लूबेरी (नीलबदरी) के फायदे और नुकसान (Blueberry Benefits And Side Effects in hindi)

खून की कमी पूरी हो

शरीर में खून की कमी होने पर आप सोयाबीन के दूध का सेवन करें. इस दूध को अपनी डाइट में शामिल करने से आपको एनीमिया की कमी नहीं होती है. वहीं गर्भवती महिलाओं के लिए भी ये दूध लाभकारी साबित होता है.

वजन कम हो

soya beans milk ke fayad

अपनी डाइट में इस दूध को शामिल करने से आपको वजन कम करने में सहायता मिलती है. दरअसल इस दूध के अंदर  कौलोरी ना के सामान होती है और इसको पीने से चर्बी घटना शुरू हो जाती ही. इसलिए जिन लोगों को अपना वजन कम करना है वो इस दूध को बिना शरीर की कौलोरी बढ़ने के डर से पी सकते हैं.

ये भी पढ़ें-ओट्स के फायदे और नुकसान (Oats Benefits and side effects in Hindi)

सोया बीन का दूध कैसे बनता है

आप सोच रहे होंगे की आखिर किस तरह से सोयाबीन का दूध बनाया जाता है. दरअसल जैसे हल्दी को दूध में मिलाकर हल्दी वाला दूध तैयार किया जाता है, ठीक उसी तरह से दूध में सोयाबीन को मिलाकार सोयाबीन का दूध तैयार किया जाता है. हालांकि दूध में सोयाबीन को मिलाने से पहले इन्हें पानी में कम से कम 8 घंटे के लिए रखा जाता है और फिर इनको पीस जाता है. पीसने के बाद इनको दूध में डाल दिया जाता है.  इसके बाद दूध को छान लिया जाता है. इस तरह से सोयाबीन वाला दूध बनकर तैयार हो जाता है. इस दूध को आप गर्म करके भी पी सकते हैं और इसके अंदर शहद या चीनी भी डाल सकते हैं. अगर आप वजन कम करने के लिए इस दूध को पी रहे हैं तो आप इसके अंदर चीनी की जगह शहद डालें.

ये भी पढ़ें-जादूगर हल्दी के गुणकारी फायदे (Turmeric Benefits In Hindi)

सोयाबीन के दूध से जोड़े नुकसान

इस दूध का अधिक मात्रा में सेवन नहीं करना चाहिए और आप हफ्ते में दो बार ही इस दूध का सेवन करें. जिन लोगों को सोया से एर्लीज रहती है वो इस दूध को बिलकुल ना पीएं.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here