विदेश में फंसे भारतीयों को वापस लाने की प्रक्रिया शुरू, भारत आने के लिए खुद उठाना होगा खर्च

0
31
home ministry indians abroad corona
home ministry indians abroad corona

जानलेवा कोरोना वायरस के कारण देश में अंतरराष्ट्रीय और घरेलू उड़ानों को पूरी तरह से बंद कर दिया है। अंतरराष्ट्रीय उड़ानों को बंद करने के कारण कई सारे लोग विदेशों में फंसे हुए हैं और देश वापस आने का रास्ता तलाश रहे हैं। ऐसे लोगों के लिए भारत सरकार ने एक फैसला लिया है। जिसके तहत इन लोगों को विदेशों से अब भारत लाया जाएगा। भारत सरकार की और से लिए गए फैसले के तहत 7 मई से विदेशों में फंसे भारतीयों को भारत लाने का काम शुरू कर दिया है।

गृह मंत्रालय की ओर से दी गई जानकारी के अनुसार भारत सराकर की और से विदेशों में फंसे लोगों को वापस देश लाने की तैयारी कर ली गई है और सरकार जल्दी ही इन लोगों को भारत वापस ले आएंगी। हालांकि भारत सरकार केवल उन्हीं लोगों को भारत लाएगी जिनमें कोरोना वायरस से लक्षण नहीं पाए जाएं। यानी अगर कोई भारतीयो कोरोना वायरस से ग्रस्त पाया जाता है तो उसे अपने इलाज उसे देश में करवाना होगा और वो ठीक होने के बाद ही भारत वापस आ सके।

इतना ही नहीं गृह मंत्रालय की ओर से ये भी साफ कर दिया गया है कि भारत आने वाले लोगों को अपना खर्चा खुद उठाना होगा। यानी भारत सरकार की और से वापस भारत लाने में जो खर्चा आएगा वो नहीं दिया जाएगा। गृह मंत्रालय के बयान के अनुसार अन्य देशों में फंसे लोगों को विमान और पोत द्वारा भारत लाए दाएगा।

वहीं भारत आने के बाद उनकी कोरोना वायरस का टेस्ट लिया जाएगा और साथ में ही उन्हें 14 दिन के लिए क्वॉरंटीन में रखा जाएगा। भारतीय दूतावास और उच्चायोग को इस बारे में सूचना दे दी गई है और इन्हें फंसे हुए भारतीयों की सूची तैयार करने की जिम्मेदारी दी गई है। सूची तैयार होते ही इन लोगों को वापस स्वदेश लाने का काम शुरू कर दिया जाएगाय़

मानने होंगे ये नियन

मंत्रालय की और से ये साफ किया गया है कि भारत आने के बाद के यात्रियों को आरोग्य सेतु एप्प पर पंजीकरण करवाना होगा, चिकित्सा जांच करवानी होगाी। और इस दौरान उन्हें अपना खर्च वहन करना होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here